Poem no.3 - शायर और शायरी

हर किसी में छुपा हे एक शायर,
HIndi Poetry, Shayari, Love Poem

हम सभी ने कभी न कभी कुछ न कुछ गुनगुनाया होगा।
ये बिल्कुल भी जुदा नहीं इबादत से,
कोई रोज करता है,  तो कोई खास मौकों पर।
दो अलफाज ही सही, पर खुद की कोशिश जरूर होती है।
जब प्यार परवान पर हो, तो शायरी हर बात में होती है।
ये कोई साज नहीं, जो बिन सितार मजा ना दे।
ये तो दिल की आवाज है, जो दिलों तक बदस्तूर जानी है।
जब बात दिल से हो, तो चन्द अलफाज काफी होते है,
जो लफ्जों से न हो बयान, वो कलम बयान करती है।
इस कुदरत की देन शायरी,
जब दिल उदास हो तो लिख देते है शायरी,
और जब मौसम हसीन हो तो सुना देते हे शायरी।

No comments:

Post a Comment