""हैरान करने वाले मीडिया के ये कारनामे""

देश की वीर मीडिया

सच में बहुत ही जांबाज हे मेरे देश की मीडिया। इसको बिल्कुल भी डर नहीं लगता र्बोडर लाइन पर जा कर कवरेज करने में, ना ही प्राकृतिक आपदा के दिनों में केदारनाथ पहुँचने में। कभी-कभी लगता हे, जैसे देश की आन्तरिक व बाहरी सुरक्षा हमारी मीडिया ही कर रही है, और बाकी सब तो इनके आदेश का इन्तजार कर रहे है।

चाहे देश को 2 सालो में चीन से आगे ले जाने की बात हो या आतंकी देशों को धूल चटाने की, इनके जानकार लोग हर वक्त प्लान के साथ तैयार रहते है। इनके सवालों व समाधानों का तो साहब में कायल हूँ, चाहे करप्शन हो या किसानों की समस्या, बाढ हो या सूखा, बच्चा गढे में गिरा या शराबी नाले में, आपके घर में लालटेन है या शौचालय, ये किसी भी विषय को नहीं छोड़ते, क्योंकि समाधान किसी के पास हे तो वो हे हमारी मीडिया।
Article on Media, Indian Media, Best Article on Media


बस कुछ ही चैनल बचे हे, जिसमें दो देशों के बीच बढ रहे तनाव को ब्रेकिंग न्यूज नही माना जाता है, बल्कि एक गंभीर चुनौती समझा जाता है। वो है, देश का नेशनल चैनल व एनडीटीवी जैसे कुछ र्द्रुलभ चैनल। अब प्रश्न ये भी हे कि ब्रेंकिग न्यूज, चाय के साथ लिया जाने वाला बिस्कुट बन गया हे, तो जनता से भी ये बिस्कुट छोड़ा नहीं जाता है। कुछ लोगों से हमने पुछा आपने नेशनल न्यूज चैनल कब देखा था, और महिने में कितने बार देखते हो, हालांकि ये कोई सर्वे नहीं था, पर बहुत से लोगों का जवाब था कि 26 जनवरी व 15 अगस्त को देखा होगा या फिर उनको याद नहीं था। 

चैनलों की स्वामी भक्ति से कोई एतराज नहीं है, उनका चैनल हे कुछ भी दिखाये। परन्तु प्रश्न यह है, एक खबर को 12 घण्टे अलग-2 तरह से चलाने का हुनर किसने सिखाया। कैसे आप वातानुकूलित कमरों में बैठकर सेना, अधिकारियों, किसानों, मजदूरों को हर वक्त ज्ञान बाट सकते हो। क्यों आपके चैनलों पर आपकी इंडस्ट्री में हो रहे भ्रष्टाचार की खबरें नहीं आती? क्यों आप उन रिपोर्टर का नाम नहीं लेते, जो किसी व्यक्ति या विषय पर गलत न्यूज चलाता है? ये सभी प्रश्न आपको अपने अस्तित्व को बनाये रखने के लिए खुद से पुछने होगे।

देश की असली समस्याओं पर आपको अपना साहस दिखाना होगा, शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, ग्रामीण क्षेत्रों का पलायन, गरीबी ओर न जाने कितनी बातों में आपकी साहसिक भूमिका की जरूरत है। जहाँ आपकी जरूरत हे वहाँ टी.आर.पी. नहीं है, और हमारे बार्डर पर आपकी जरूरत नहीं हे, वहाँ आपकी ब्रेकिंग न्यूज है। मैं उत्तराखण्ड से हूँ, एक सत्य बात बताता हूँ। केदारनाथ आपदा के दौरान बहुत से रिर्पोर्टर देव प्रयाग व श्रीनगर के आस पास जा कर ही दावा कर रहे थे कि हम जान का जोखिम लेकर केदारघाटी से रिर्पोर्टींग कर रहे है, और हम लोग ये देखकर दंग थे।

हमारी इस साहसी मीडिया को मेरा सलाम। सभी से आग्रह हे अपनी पसंद का चैनल जरूर देखे पर आंख बन्द कर के भरोसा ना करें। अपने अधिकारियों, सेना व देशवासियों का सम्मान करें। जरूरी लगे तो सवाल कीजिए, विरोध कीजिए सरकार का, पर जो टी.वी. पर परोसा जा रहा है, उसको आखिरी सत्य ना माने।

अपनी बाते व सुझाव जरूर दीजिए व पोस्ट महत्वपूर्ण लगे तो शेयर करें।

1 comment: