Poem No. 32 - देशहित में

दर्द ही दर्द हे, मेरे देश के सीने में,
इस दर्द से मेरा दिल भी पसीज जाता है।
ये जो बच्चे सो रहे है सड़को पर,
इनको देख विकास की बातों से भरोसा उठ जाता है।

कभी शहादत जवानों की सुनता हूँ,
तो कभी खुदकुशी किसानों की।
जब भी ये बेहाली देखता हूँ,
जय जवान, जय किसान का नारा भूल जाता हूँ।

राह चलती लड़की संग, जब ये दुर्व्यवहार होता है,
तब अपने दिये वोट पर, मैं ही खुद पछताता हूँ।
जब सरकारे घोटाला कर रही होती हे, 
तो आम इनसान को लाचार पाता हूँ।

जब जगमगाती गाड़ीयॉ, गरीबों को रौंद जाती है,
और अदालत में घरवालों को खरी खोटी सुनायी जाती है।
तब विश्वास होता हे, कानून तो अपना अंधा है।

हर बार दिल ऐसे ही दर्द में डूब जाता है,
जब देश का दर्द ऐसे सामने आता है।

On request of our readers, we have decided to share Poem & Shayari Image of complete poem with you, so you can share it easily at your social media sites.
Hindi Poem Image, Poem Image, Poetry Image

No comments:

Post a Comment