Patriotic Hindi Poem । देशहित पर कविता

हम 26 जनवरी व 15 अगस्त आते ही देशभक्ति व निष्ठा की बाते करते है, पर देशहित पर लिखी हमारी यह कविता आपको सच्चाई का आयना दिखायेगी। आज भी हम सब को मिल कर इस देश को बेहतर बनाने के लिए बहुत से सुधार करने की अवश्यकता, आशा है हमारी कवितायें आपको पसंद आयेगी।

देशहित में कविता


दर्द ही दर्द हे, मेरे देश के सीने में,
इस दर्द से मेरा दिल भी पसीज जाता है।
ये जो बच्चे सो रहे है सड़को पर,
इनको देख विकास की बातों से भरोसा उठ जाता है।

कभी शहादत जवानों की सुनता हूँ,
तो कभी खुदकुशी किसानों की।
जब भी ये बेहाली देखता हूँ,
जय जवान, जय किसान का नारा भूल जाता हूँ।

राह चलती लड़की संग, जब ये दुर्व्यवहार होता है,
तब अपने दिये वोट पर, मैं ही खुद पछताता हूँ।
जब सरकारे घोटाला कर रही होती हे, 
तो आम इनसान को लाचार पाता हूँ।

जब जगमगाती गाड़ीयॉ, गरीबों को रौंद जाती है,
और अदालत में घरवालों को खरी खोटी सुनायी जाती है।
तब विश्वास होता हे, कानून तो अपना अंधा है।

हर बार दिल ऐसे ही दर्द में डूब जाता है,
जब देश का दर्द ऐसे सामने आता है।

देश के वीर शहीद सैनिको को समर्पित कविता


देख माँ तेरा आंचल रंग आया हूँ,
बच्चों को तेरी बाँहों में रोता छोड़ आया हूँ।
शिकायत तो उसको होगी ना माँ,
बिन बताए जिसे मैं चला आया हूँ।
जिंदगी के सफर में सबको अकेला छोड़ आया हूँ,
तुझसे मिलने को उस बूढ़ी मां को अकेला छोड़ आया हूँ।

मैं अभी थका तो नहीं था, 
पर तेरे कदमों में जा ये लगा आया हूँ। 
मैं मिटाकर सब रंग एक घर के,
तेरे गुलिस्तां को दुश्मनों से बचा आया हूँ।

मेरे भाई, मेरा बदला तो ले आएंगे,
दुश्मन को उसके घर में कुचल आएंगे।
ना उठा पाएगा नजर फिर से,
इस बार वो ऐसा कुछ कर आयेंगे।

मैं आगे बढ़ा, तो पीछे विरासत शहादत की छोड़ आया हूँ,
मैं अकेला चला था, आज अपने पीछे सैकड़ों को खड़ा कर आया हूँ।

देशभक्ति व देशहित से सम्बन्धित हमारी और कविताएँ


We have decided to share this Patriotic Poem Image of the complete poem with you, so you can share it easily at your social media sites.
Hindi Poem Image, देशहित पर कविता

No comments:

Post a comment