Showing posts with label Ishqiya. Show all posts
Showing posts with label Ishqiya. Show all posts

जब भी देखता हूँ, मैं मौसम को,
तेरे दिल का हाल जान जाता हूँ।
जब भी बहती है ये तेज हवा,
मैं भी अंदर से सहम जाता हूँ।

इंतजार होता है मुझे,
कब वो पहली बारिश की फुहार आये।
दुआ करता हूँ,
कभी रेतीला तूफान ना आये।
मुझको इंतजार होता है,
कब वो फाल्गुन का महीना आये,
फिजा में हर ओर रंग ही रंग घुल जाये।
जो खो चुकी थी अब तक,
वो फूलों की खुशबू हर तरफ फैल जाये।



मैं तेरे दिल का हाल जान जाता हूँ
हर एक बात कहने से पहले समझ जाता हूँ।
जब भी मौसम बदलता है,
मैं तेरा बदला हुआ मिजाज समझ जाता हूँ।

दुआ करता हूँ खुदा से,
इस चमन को फूलों की खुशबू और बारिश की फुहारे मिल जाये।
मेरा यार जो नाराज है,
उसके चेहरे पर हंसी आ जाए।

क्या सच में अपने चाहने वालों से
प्यार जाहिर करने का कोई त्यौहार होता है!

क्या यह मुमकिन है कि एक दिन बाहों में भरने का,
और एक इजहार करने का पहले से मुकर्रर होता है?

क्यों बस प्यार एक हफ्ते ही सबकी जुबान पर होता है,
और फिर पूरे साल हमको क्या करना होता है?
Romantic Poem, Valentine Day, Shayari
True Love - Ishqiya
क्या जो सबको दिखाया जाए वहीं बस प्यार होता है,
कैसे एक प्याली कॉफी के पीने से प्यार पुख्ता होता है,
कैसे सिनेमाहॉल में चुप बैठे रहने से यह प्यार आगे बढ़ता है?

छलकते जाम और धूए मैं धुंधली शाम,
जहां पर शोर सबसे ज्यादा होता है,
ऐसे में जो बातें की उससे क्या एतबार बढ़ता है?

मुहब्बत तो एक आजाद ख्याल है,
मैं इसको कैसे चंद दिनों में बांट लूं।
मुहब्बत तो दिल का सच्चा जज्बात है,
मैं कैसे इसे वेलेंटाइन डे में बांध लूं।

बहुत मुदतों कै बाद रोशन हुआ है ये आँगन हमारा,
                बहुत मुदतों कै बाद रोशन हुआ है ये आँगन हमारा,
आज बादलो से कह दो कि न ओढ़नी उढ़ाये, मुझे देखने दो मेरे प्यार को।                तरसा हुँ हर पल इस एक पल कै लिए मै, ये पल जो मिला है मुझे झूमने दो,
न ये सावन कि ऋतु है न ये मौसम बसंती, न ये सावन कि ऋतु है न ये मौसम बसंती,
               पर मेरी तो मानो ईद आ गयी है। 
Love Poem, Roamntic Shayari, True Love

लोग कहते है अक्सर रात काली मै किसको कभी क्या मिला है,
                पर मै प्यासा था जिसका वो मुझको इसी मै मिला है,
मै चाहता हू उसको, ये उसे क्या पता है, वो खूबसूरत है इतना उसे हर दूसरा चाहता है।
                 जो मोका मिले तो दिखला दूंगा उसको, जो मोका मिले तो दिखला दूँगा उसको,
कि प्यार कितना हमे हे उस से, फिर सोचता हूँ क्या मेरी म्होब्ब्त मोका परसत है?
                मै प्यार करता हु यूंही करता रहूँगा, एहसास उसको भी होकर रहेगा
बहुत मुदतों कै बाद रोशन हुआ है ये आँगन हमारा, आज जी भर कै उसका दीदार कर लू।
                    आज जी भर कै उसका दीदार कर लू॥ 

Poem No. 11 - नयी महफिल, पुराना मेहमान

जिन्दगी मेरी रंग-ए-महफिल है, शुक्रिया इस में समा जलाने के लिए।
बहुत बेजान सी ये शाम थी, शुक्रिया इसमें रौनक लाने के लिए। 
बहुत दूर तक देखा तो तनहाई थी, तुम संग बहार ले आयी हो। 
तेरी कानों की बाली पर आ रुकी है सभी की नजर, घुंघरू की छनक हर दिल में रवानी लायी है।  
आज वो भी चरचे हमारे करते हे, जो कल तक दूरी बनाये बैठे थे।
तेरे चेहरे की चमक के सामने लगता हर कोई परछायी है, तेरे आने से मेरी मुस्कान  लोट आयी है।
Poem for Love, Hindi Shayari, Hindi romantic Poem


ऊफ ये तेरा यौवन, ये जवानी की छटा, मार ही डालेगी उसको जिसने नजर मिलायी है।
लोग कहते है शायराना आज मेरा अन्दाज हे, पर किसी को खबर नहीं ये अलफाज तुम से ही तो  चुराये है।
तुझको छू के गुजरने वाली ये सर्द हवा, मेरे सीने में चिंगारी मुहब्बत की जगा देती है। 
लगता हे, आज दिन है मुहब्बत में शहादत पाने का, इसलिए बिन कुछ बोले ही तू इतने करीब चली आयी है।

ये तारो से सज़ा आसमां और चाँद खुद धरती पर उतर आया है। 
न तो ये दिन ईद का, न आज तीज आयी है, न जाने फिर क्यों दिंलो के दरमियान इंतजार की घड़ी आयी है।
शुक्रिया इस दिल में दस्तक देने के लिए, तेरे आने से ही इस महफिल जान आयी है। 

जिन्दगी मेरी रंग-ए-महफिल है, शुक्रिया इस में समा जलाने के लिए।
बहुत बेजान सी ये शाम थी, शुक्रिया इसमें रौनक लाने के लिए। 

मैंने किस हालात में ये शेर लिखा होगा,
ये तू मेरे लिखने के अन्दाज से समझ जायेगा।
मैंने कितना इंतजार किया है तेरा,
ये तू मेरी जिन्दगी की रफ्तार से समझ जायेगा।

चलता फिरता एक आईना हूँ मैं,
तुझको तेरा असली चेहरा दिखा जाऊंगा।
अपनी जरूरत के लिए लोग बनाते हे दोस्त यहाँ,
मैं ऐसे दोस्तों के लिए भी ये जिंदगी दाव पर लगाऊंगा।
Sad Poem, Hindi Romantic Poetry, Break Up Poem


दिल मेरा खंडहर हो चुका हे,
अब इस में किसी को पनहा न दे पाऊंगा।
हमने अपनी जिम्मेदारियों का नया नाम प्यार रखा है,
इस से मन का वहम हे कि हम इश्क में है,
और दिल को सुकून हे कि कोई इसको तोड़ेगा नहीं।

मुझको समझना हो तो मेरी मुस्कान को पढ़ लो,
और मेरे पास रहना हो तो मेरी खामोशी से दोस्ती कर लो।